मोदी सरकार की मदद से ऐसे शुरू करें बिजनेस

नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) इस बात का प्रयास कर ही है साल 2024 तक भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) का आकार 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाया जाए. इसके लिए केंद्र सरकार हर स्तर पर मेहनत करने में जरूरी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस सपने को साकार करने के लिए सबसे जरूरी है कि छोटे व मझोले स्तर के कारोबार को बढ़ाया जाए. छोटे उद्यमियों को खुद का कारोबार शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री एम्पलॉयमेंट जेनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत प्रोत्साहित किया जा रहा है. ऐसे में अगर आप भी बेहद कम खर्चे में खुद का उद्यम शुरू करना चाहते हैं तो केंद्र सरकार आपको लोन लेने से लेकर सब्सिडी तक लाभ दे सकती है. आज हम आपको इस स्कीम के बारे में जानकारी देंगे.

क्या प्रधानमंत्री एम्पलॉयमेंट जेनरेशन प्रोग्राम ?
प्रधानमंत्री एम्पलॉयमेंट जेनरेशन प्रोग्राम एक तरह का क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी प्रोग्राम है, जिसका संचालन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME Ministry) करता है. इस प्रोग्राम को लागू करने के लिए खादी विलेज इंडस्ट्री कमीशन नोडल एजेंसी (KVIC) को नोडल एजेंसी के तौर पर नियुक्त किया गया है. इस स्कीम को KVIC, KVIB और राज्य स्तर पर ​जिला उद्योग केंद्र के जरिए लागू किया जाएगा.

KVIC की वेबसाइट के मुताबिक, इस स्कीम के तहत मैन्युफैक्चरिंग यूनिट (Manufacturing Unit) खोलने के लिए अधिकतम 25 लाख रुपये मुहैया कराने का मौका है. वहीं, सर्विस यूनिट (Service Unit) खोलने के लिए यह अधिकतम सीमा 10 लाख रुपये की है. इसमें प्रोजेक्ट कॉस्ट में यूनिट खोलने के लिए जमीन की कीमत को नहीं जोड़ा गया है.

सरकारी सब्सिडीग्रामीण क्षेत्रों में जनरल कैटेगरी के लिए 25 फीसदी की सब्सिडी दी जाएगी. वहीं, विशेष श्रेणी के लिए यह सीमा 35 फीसदी तक का है, जिसमें SC/ST/OBC, माइनॉरिटी और दिव्यांग लोग शामिल होंगे. वहीं, शहरी क्षेत्रों में इन दोनो कैटेगरी के लिए क्रमश: 15 फीसदी और 25 फीसदी की सब्सिडी दी जाएगी.

इस स्कीम के तहत 27 बैंकों में किसी भी बैंक से लोन लिया जा सकता है. इसमें सरकरी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक, वो प्राइवेट शेड्यूल्ड कॉमर्शियल बैंक शामिल हैं, जिन्हें स्टेट टास्क फोर्स कमिटी ने मंजूरी दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *