सरकार का नया नियम, बिना FASTag अब नहीं चलेगी गाड़ी

अब देश में हर गाड़ी में फास्टैग जरूरी होगा. इतना ही नहीं अब इसे आपकी गाड़ी के इंश्योरेंस के साथ भी जोड़ा जा रहा है. फास्टैग 1 दिसंबर 2017 से पहले की गाड़ियों में अनिवार्य होगा. ये नियम जनवरी 2021 से लागू हो रहा है. अप्रैल 2021 से थर्ड पार्टी बीमा के लिए भी फास्टैग जरूरी होगा. अब तक करीब 1.5 करोड़ FASTag बिके हैं. 2017 से रजिस्ट्रेश के लिए फास्टैग अनिवार्य है. ट्रांसपोर्ट वाहनों के फिटनेस सर्टिफिकेट के लिए FASTag जरूरी है. तो अगर आपने अपनी गाड़ी 1 दिसंबर, 2017 से पहले खरीदी है तो अगले साल से आपके लिए FASTag लेना अनिवार्य होगा. नई गाड़ियों के लिए पहले से ही फास्टैग अनिवार्य है. साथ ही 3rd पार्टी बीमा लेने के लिए भी FASTag को अनिवार्य किया गया है. आखिर क्या है FASTag- फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है. इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है. जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है. इसके बाद आपके फास्टटैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है. इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं. वाहन में लगा यह टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना काम शुरू कर देगा. वहीं, जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा.

नए वाहन मालिकों को FASTag के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है. वजह है क‍ि ये रजिस्ट्रेशन के समय पहले से ही उपलब्ध कराए जाएंगे. ओनर को बस FASTag अकाउंट को सक्रिय और रिचार्ज करना होगा. हालांकि, आपके पास पुरानी कार है, तो आप उन बैंकों से FASTag खरीद सकते हैं जो सरकार के राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह (NETC) कार्यक्रम से अधिकृत हैं.

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Translate »