बिहार कांग्रेस मुख्यालय में इनकम टैक्स का छापा, मिले लाखों रुपये

पटना.  आयकर विभाग की टीम ने पटना के कांग्रेस दफ्तर सदाकत आश्रम में छापा मारा है. बताया जा रहा कि कांग्रेस दफ्तर (Congress office) पहुंची इनकम टैक्स विभाग की टीम ने लाखों रुपये बरामद किए हैं. इनकम टैक्स विभाग की टीम सदाक़त आश्रम (Sadaqat Ashram) में नेताओं से पूछताछ कर रही है. इस दौरान कांग्रेस दफ्तर पर नोटिस चिपकाया गया है. मिली जानकारी के अनुसार कि ये रेड करीब एक घंटे तक चली जिसमें रुपये के लेन-देन को लेकर कई नेताओं से पूछताछ की गई है.

बताया जा रहा है कि इनकम टैक्स विभाग के रडार पर कांग्रेस पार्टी से जुड़े बिहार मूल के कुछ स्थानीय नेता हैं. पिछले कुछ दिनों के अंदर हुए संदिग्ध लेनदेन के सिलसिले में उनसे पूछताछ होने वाली है. मिली जानकारी के अनुसार बिहार चुनाव के मद्देनजर गलत तरीके से ब्लैक मनी के लेन देन का आरोप है. यह भी जानकारी सामने आ रही है कि बिहार के कुछ स्थानीय नेताओं और कुछ वहां के स्थानीय लोगों के बीच हुए लाखों-करोड़ों रुपये के लेनदेन के मसले पर इनकम टैक्स विभाग की टीम पूछताछ करने वाली है.

भारतीय जनता पार्टी ने इस मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी के प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि कांग्रेस जैसी पार्टी के कार्यालय से इतनी बड़ी राशि बरामद होना बहुत ही गंभीर मामला है. खास तौर से चुनाव के वक्त रुपये बरामद होना यह दर्शाता है कि ये लोग किस प्रकार से सत्ता में आने को लेकर बेचैन हैं और हर प्रकार के हथकंडे अपना रहे हैं.
प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि पैसे की बंदरबांट कर और उसका दुरुपयोग कर चुनाव आयोग के नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. यह बताता है कि किस प्रकार से पैसे पूरे राज्य के अंदर पैसे बहाकर बिहार का चुनाव जीतना चाहते हैं. बिहार की जनता इसका करारा जवाब देने का काम करेगी.

जदयू प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा कि  दाकत आश्रम में इनकम टैक्स की रेड होती है और भारी मात्रा में पैसे बरामद होते हैं. यह कहीं न कहीं कांग्रेस की राजनीतिक शुचिता का परिचायक है कि इस चुनाव में वह लोग क्या कर रहे थे, क्या करने वाले थे. इस तरह पैसों का बरामद होना और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को इसकी जानकारी होना साबित करता है कि निश्चित रूप से कांग्रेस पार्टी की ओर से इस चुनाव में गड़बड़ी होने जा रही थी.

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Translate »