नूर इंटर कॉलेज में पकड़े गए सालवर गैंग, परीक्षाएं हो सकती हैं निरस्त

सुलतानपुर , मंगलवार को परीक्षा केन्द्र पर पेपर साल्व करने का मामला पकड़े जाने से बोर्ड परीक्षाओं की शुचिता प्रभावित होने का अंदेशा बढ़ गया है। नूर इंटर कॉलेज में छापेमारी के दौरान टीम को अब तक हो चुकीं परीक्षाओं के गाइड्स व अन्य तरह की नकल सामग्री भी मिली हैं। उसे सील करते हुए कार्रवाई के लिए बोर्ड आफिस को भेज दिया गया है। अंदेशा है कि परीक्षाएं निरस्त की जा सकती हैं।
नूर इंटर कॉलेज में पकड़े गए सालवर गैंग का मामला। अखंडनगर क्षेत्र में भी गोपनीयता की जांच से कई विद्यालय हो सकते हैं नकलची लिस्ट के माफिया

*जिला विद्यालय निरीक्षक की तरफ से माध्यमिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद भेजा गया कार्रवाई संस्तुति पत्र। इंटर कॉलेज को काली सूची में डालने की शुरू हुई तैयारी : सूत्र।

हाईस्कूल गणित की परीक्षा से 1910 ने किया किनारा : यूपी बोर्ड की मंगलवार को पहली पाली में हाईस्कूल गणित व इंटमीडिएट की व्यवसायिक परीक्षा थी। हाईस्कूल में पंजीकृत 28530 में 22620 छात्र उपस्थित रहे। 1910 परीक्षार्थी अनुपस्थित पाए गए। जबकि, इंटरमीडिएट के व्यवसायिक की परीक्षा में पंजीकृत 556 में 547 उपस्थित रहे। नौ परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। सचल दल के निरीक्षण में एक भी नकलची नहीं पकड़ा जा सका।

इंटर कॉलेज के प्रबंध तंत्र की बढी डीआईओएस कार्यालय और कुड़वार थाना क्षेत्र में हलचल। सेटिंग सेटिंग कर मामले को रफा-दफा करने की चहलकदमी। नकल के खुलासे के बाद इंटर कॉलेज के बाहर परीक्षा के लिए लगा डायल हंड्रेड वाहन, सख्त सुरक्षा घेरा। सीसीटीवी के जरिए भी इंटर कॉलेज में बोर्ड परीक्षा की मॉनिटरिंग।

जिला मुख्यालय से लगभग 60 km दूर अखंडनगर क्षेत्र में भी जिला विद्यालय निरीक्षक के द्वारा गोपनीयता की जांच कराने पर खिड़की व दरवाजे से छिपकर आडियो रिकॉर्डर बन्द करके नकल कराने वाले माफिया प्रबंधकों के अध्यापकों को पकड़ने में मिल सकती है बड़ी कामयाबी

छापेमारी के दौरान नूर इंटर कॉलेज में नकल सामग्री बरामद हुई है। जिसे सील कराते हुए बोर्ड आफिस भेज दिया गया है। दो अन्य पेपर में नकल का संदेह हो रहा है। जिसकी रिपोर्ट बोर्ड आफिस भेजी गई है। यूपी बोर्ड के आदेश पर दोबारा परीक्षाएं कराई जा सकती हैं।

: एसके तिवारी, डीआईओएस सुलतानपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.