CM कमलनाथ ने राज्यपाल को दिया इस्तीफा

भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में सियासी संकट समाप्त हो गया है. सीएम कमलनाथ (Kamal Nath) ने शुक्रवार को अपना इस्तीफा राज्यपाल लालजी टंडन (Lalji Tandon) को दे दिया है. फ्लोर टेस्ट से पहले सीएम कमलनाथ ने इस्तीफा देने का ऐलान किया था. सीएम ने कहा था कि वे राज्यपाल लालजी टंडन को इस्तीफा सौंपेंगे. उन्होंने कहा, ‘मैंने तय किया है कि मैं राज्यपाल को इस्तीफा दूंगा’.

इस्तीफा देने से पहले सीएम कमलनाथ ने कहा कि, ‘राज्य में बीजेपी को 15 साल मिले थे. मुझे अब तक सिर्फ 15 महीने मिले हैं. ढाई महीने लोकसभा चुनाव और आचार संहिता में गुजरे. इन 15 महीनों मे राज्य का हर नागरिक गवाह है कि मैंने राज्य के लिए कितना काम किया, लेकिन बीजेपी को ये काम रास नहीं आए और उसने हमारे खिलाफ लगातार काम किया.’

1-सीएम कमलनाथ ने सरकार गिराने के लिए पूरी तरह बीजेपी और उसके षडयंत्र को जिम्मेदार ठहराया. कमलनाथ ने कहा मेरी सरकार ने 15 महीने में विकास कार्य किए जो बीजेपी को रास नहीं आए. पहले ही दिन से बीजेपी ने षडयंत्र शुरू कर दिया था.प्रदेश की जनता के साथ विश्वासघात किया गया.

2-कमलनाथ ने कहा बीजेपी ने एमपी को माफिया राज बना दिया था. हमारी सरकार ने एमपी को माफिया मुक्त राज्य बनाने की मुहिम शुरू की थी.बीजेपी को ये रास नहीं आया. मेरे जन हितैशी काम बीजेपी को रास नहीं आए.

3-कमलनाथ ने अपने भाषण में लगातार हिंदुत्व से जुड़े मुद्दों का ज़िक्र किया. उन्होंने याद दिलाया कि अपनी सरकार के 15 महीने के कार्यकाल में उन्होंने रामपथगमन, सीता मंदिर और गौशाला बनाने का काम शुरू किया. बीजेपी को ये भी रास नहीं आ रहा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.