यूपी में लॉकडाउन के दौरान अब तक 2089 FIR

लखनऊ उत्तर प्रदेश में पुलिस ने बुधवार को लॉकडाउन के दौरान कानून-व्यवस्था की चुनौती को पहले दिन सफलता से पार करने के बाद आगे के लिए रणनीति बनानी भी शुरू कर दी है। कहीं कोई गड़बड़ी न हो, इसके लिए डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी का फोकस भी आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई पर था। उन्होंने कुछ जगह से शिकायतें आने के बाद आवश्यक वस्तुओं के वाहनों को कहीं रोके न जाने के कड़े निर्देश दिए हैं।

पुलिस की नजर अब काला बाजारी पर भी टिकी है। 112 पर तीन दिनों में काली बाजारी की एक हजार से अधिक शिकायतें भी आई हैं। इनमें ज्यादा शिकायतें अधिक मूल्य पर सामान बेचे जाने की हैं। डीजीपी ने विभिन्न कंट्रोल रूम पर आ रही ऐसी शिकायतों को गंभीरता से लेकर जांच कर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। डीजीपी ने लोगों से अनावश्यक घरों से बाहर न आने की अपील भी की है। 

लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में 6044 से अधिक स्थानों पर नाकेबंदी की गई है। 200150 वाहनों की चेकिंग किए जाने के साथ ही 3679 वाहनों को सीज किया गया है। धारा 188 के तहत 2089 एफआईआर भी दर्ज की गई हैं। दूसरी ओर 112 पर भी कोरोना से संबंधित शिकायतों का ग्राफ प्रतिदिन बढ़ रहा है।

लॉकडाउन के दौरान 17 घंटों में पुलिस को 9000 लोगों ने मदद के लिए कॉल की। इनमें 3200 मामले तो भीड़ एकत्रित होने के थे। इसके अलावा 1300 जरूरतमंदों ने पुलिस को कॉल कर राशन दिलाने की मांग की। लोग कोरोना के संदिग्ध मरीज के होने, मरीज के अस्पताल से भागने व यातायात के साधन न मिलने जैसी सूचनाएं भी पुलिस को लगातार दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.