बुलंदशहर पुलिस का नोटिस वायरल, योगेंद्र यादव ने साधा योगी सरकार पर निशाना, एसएसपी ने दिया जबाव

बुलंदशहर. लॉकडाउन के बीच बुलंदशहर में पुलिस की एक नोटिस सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हो रही है. बुलंदशहर पुलिस की नींद उड़ाने वाले इस नोटिस में लिखा है कि प्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने या पानी पिलाने पर उक्त व्यक्ति पर एफआईआर दर्ज होगी. इस वायरल नोटिस को देख पूरे सरकारी तंत्र में अफरा-तफरी मच गई और खुद एसएसपी बुलंदशहर संतोष कुमार सिंह ने मीडिया को बताया कि ये पूर्व विधायक बाहुबली श्रीभगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित की साजिश है. उन्होंने बताया कि गुड्डू पंडित को पूर्व में दिए गए नोटिस से नाम हटाकर इसे वायरल किया गया है, हालांकि पुलिस अभी पूरे प्रकरण की जांच कर रही है. बता दें कि गुड्डू पंडित पर लॉकडाउन उल्लंघन का मुकदमा तीन दिन पूर्व नगर कोतवाली में दर्ज हुआ है.

योगी सरकार पर निशाना

उधर, इस मामले में सियासत भी शुरू हो चुकी है. पॉलिटिकल एक्टिविस्ट और स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने वायरल नोटिस को ट्वीट करते हुए लिखा यूपी सरकार उन सभ्य लोगों को धमका रही है और कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है कि अगर वे पैदल चल रहे प्रवासी श्रमिकों को आश्रय, खाना व पानी देंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि सोशल मीडिया पर बुलंदशहर पुलिस की एक नोटिस को सोशल मीडिया पर वायरल कर गलत संदर्भ में प्रसारित किया जा रहा है. मैं स्पष्टीकरण देते हुए बताना चाहता हूं कि जनपद में एक गुड्डू पंडित नाम के एक व्यक्ति हैं. उनके विरुद्ध लॉकडाउन के उल्लंघन और सोशल नियमों का पालन न करने के आरोप में पांच से ज्यादा मुक़दमे पंजीकृत हैं. साथ ही गुड्डू पंडित को चौकी प्रभारी द्वारा एक नोटिस इस आशय से दिया गया था कि वे कतिपय लोगों को भोजन के नाम पर जगह-जगह से बुलाकर इकट्ठा किया जा रहा था. इसे लॉकडाउन की व्यवस्था प्रभावित हो रही थी. इस नोटिस में उनके नाम को हटाकर बुलंदशहर पुलिस को बदनाम करने की साजिश की गई है. एसएसपी ने बताया कि जनपद के कई समाजसेवियों ने जनता को राहत पहुंचाने के लिए भोजन व राहत सामग्री फैलाई है. उनके इस प्रयास का जनपद पुलिस ने स्वागत किया और सहयोग भी मुहैया कराई गई.

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »