आपके बैंक खातों से हो रही है पैसों की चोरी, ऐसे बचें

नई दिल्ली. आपने अपने आस-पास कई लोगों को यह कहते सुना होगा कि उनके कार्ड (Credit-Debit Card) से किसी ने पैसे निकाल लिए जबकि एटीएम कार्ड (ATM Card) उनकी जेब में ही था. ऐसा ही एक वाकया दिल्ली में काम कर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमित चौहान के साथ भी हुआ. अमित रोज की तरह ऑफिस में काम कर रहे थे तभी उनके पास मैसेज आया कि उनके खाते से 10 हजार रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ है. जब उन्होंने इसकी जांच की तो पता चला कि उनके साथ एटीएम फ्रॉड किया गया है.

बुधवार को जब वह ऑफिस में काम रहे थे तभी उनके फोन पर मैसेज आया कि दिल्ली के पांडव नगर इलाके में स्थित एटीएम से किसी ने उनके खाते से 10 हजार रुपये निकाल लिए हैं. फिलहाल उन्होंने पुलिस और बैंक को इसकी जानकारी दे दी है और इसकी जांच की जा रही है.

अब सवाल उठता है कि आखिर, इस तरह की धोखाधड़ी आखिर होती कैसे हैं. इस पर साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट बताते हैं कि मौजूदा समय में फ्राड करने वाले बैंक खातों से पैसे चुराने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल करते हैं. इसमें एटीएम क्लोनिंग, व्हाट्सऐप कॉल के जरिए फर्जीवाड़ा, कार्ड के डाटा की चोरी, यूपीआई के जरिए चोरी, लॉटरी के नाम पर ठगी, बैंक खातों की जांच के नाम पर ठगी प्रमुख है.

आपको ये जानकार हैरानी होगी कि पिछले 11 साल में 53,334 लोगों के साथ धोखाधड़ी हुई है. इसमें 2.05 लाख करोड़ रुपये की चपत आम ग्राहकों को लगी. आरबीआई की ताजा रिपोर्ट बताती है कि डिजिटल लेनदेन के चलते साल 2018-19 में 71,500 करोड़ रुपये का बैंकिंग फ्रॉड हुआ है.

(1) कार्ड के डाटा की चोरी- एटीएम कार्ड के डाटा की चोरी के लिए जालसाज कार्ड स्कीमर का इस्तेमाल करते हैं. इसके जरिए जालसाज कार्ड रीडर स्लॉट में डाटा चोरी करने की डिवाइस लगा देते हैं और डाटा चुरा लेते हैं. इसके अलावा फर्जी की बोर्ड के जरिए भी डाटा चुराया जाता है. किसी दुकान या पेट्रोल पंप पर अगर आप अपना क्रेडिट कार्ड स्वाइप कर रहे हैं तो ध्यान रखें कि कर्मचारी कार्ड को आपकी नजरों से दूर ना ले जा रहा हो.

(2) एटीएम कार्ड की क्लोनिंग- साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट बताते हैं कि पहले सामान्य कॉल के जरिए ठगी होती थी लेकिन अब डाटा चोरी कर पैसे खाते से निकाले जा रहे हैं. ठग हाईटेक होते हुए कार्ड क्लोनिंग करने लगे हैं. एटीएम कार्ड लोगों की जेब में ही रहता है और ठग पैसे निकाल लेते हैं. एटीएम क्लोनिंग के जरिए आपके कार्ड की पूरी जानकारी चुरा ली जाती है और उसका डुप्लीकेट कार्ड बना लिया जाता है. इसलिए एटीएम इस्तेमाल करते वक्त पिन को दूसरे हाथ से छिपाकर डालें.

(3) बैंक खातों की जांच के नाम पर ठगी- साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बैंक खातों की जांच आपको समय-समय पर करनी चाहिए और अस्वीकृत लेनदेन के बारे में तुरंत अपने बैंक को जानकारी देनी चाहिए.

(4) नौकरी के नाम पर ऑनलाइन फ्रॉड-कई जॉब पोर्टल संक्षिप्त विवरण को लिखने, विज्ञापित करने और जॉब अलर्ट के लिए फीस लेते हैं, ऐसे पोर्टलों को भुगतान करने से पहले, वेबसाइट की प्रमाणिकता और समीक्षाओं की जांच करना जरूरी है.

(5) शादी की वेबसाइट पर लोगों के साथ ठगी- अगर आप ऑनलाइन मैट्रिमोनियल साइट पर पार्टनर की तलाश कर रहे हैं तो जरा सावधान रहिए क्योंकि इसके जरिए भी ठगी हो रही है. चैटिंग के जरिए फ्राड करने वाले आपके बैंक खाते से जुड़ी जानकारियां मांगते हैं. ऐसे में बैंक खाते से रकम उड़ा ली जाती है. गृह मंत्रालय के साइबर सुरक्षा विभाग के मुताबिक ऑनलाइन वैवाहिक साइट पर चैट करते वक्त निजी जानकारी साझा ना करें और साइट के लिए अलग से ई-मेल आईडी बनाएं और बिना किसी पुख्ता जांच किए निजी जानकारी साझा करने से बचें.

(6) व्हाट्सऐप कॉल के जरिए फर्जीवाड़ा– अगर व्हाट्सऐप पर किसी अनजान नंबर से वॉइस कॉल आती है तो आप सावधान हो जाइए क्योंकि फोन करने वाला आपको ठग सकता है. इस वारदात को अंजाम देने के बाद आपके नंबर को ब्लॉक कर सकता है. वॉइस कॉल करने वाला अपनी ट्रिक में फंसाकर आपके पैसे हड़प सकता है.

(7) यूपीआई के जरिए ठगी- यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस के जरिए किसी को भी आसानी से पैसे भेजे या मंगाए जा सकते हैं. यूपीआई के जरिए ठग किसी व्यक्ति को डेबिट लिंक भेज देता है और जैसे ही वह उस लिंक पर क्लिक कर अपना पिन डालता है तो उसके खाते से पैसे कट जाते हैं. इससे बचने के लिए अनजान डेबिट रिक्वेस्ट को तुरंत डिलीट कर देना चाहिए. अजनबियों के लिंक भेजने पर क्लिक ना करें.

(8) क्यूआर कोड से धोखाधड़ी- क्यूआर यानी क्विक रिस्पांस कोड के जरिए जालसाज ग्राहकों को भी लूटने का काम कर रहे हैं. इसके जरिए मोबाइल पर क्यूआर कोड भेजा जाता है और उसे पाने वाला शख्स क्यूआर कोड लिंक को क्लिक करता है तो ठग उसके मोबाइल फोन का क्यूआर कोड स्कैन कर बैंक खाते से रकम निकाल लेते हैं.

(9) लॉटरी, पेट्रोल पंप डीलरशिप के नाम पर ऑनलाइन ठगी- साइबर एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बीते दिनों टीवी प्रोग्राम कौन बनेगा करोड़पति के नाम पर लाखों रुपये की लॉटरी निकालने का झांसा देकर कई लोगों के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी हुई है. वहीं, पिछले साल, देश की सबसे बड़ी ऑयल मार्केंटिंग कंपनी IOC ने अपनी वेबसाइट पर पेट्रोलपंप की डीलरशिप के नाम पर धोखाधड़ी से जुड़ी जानकारी दी थी.

(10) ई-मेल स्पूफिंगई-मेल स्पूफिंग के जरिए ठग ऐसी ई-मेल आईडी बना लेते हैं जो नामी गिरामी कंपनियों से मिलती-जुलती होती हैं और फिर सर्वे फॉर्म के जरिए लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर डाटा चुरा लेते हैं. गूगल सर्च के जरिए भी ठगी के मामले सामने आए हैं. जालसाज सर्च इंजन में जाकर मिलती जुलती वेबसाइट बनाकर अपना नंबर डाल देते हैं और अगर कोई सर्च इंजन पर कोई खास चीज तलाशता है तो वह फर्जी साइट भी आ जाती है.

(11) रिवॉर्ड पाइंट के नाम पर ठगी- देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI ने हाल में अपने ग्राहकों को अलर्ट जारी करते हुए बताया है कि रिवॉर्ड पाइंट के नाम पर फ्रॉड करने वाले SMS भेजते हैं. उन SMS में बैंक खाते से जुड़ी जानकारियां मांगी जाती है और जैसे ही जानकारी उनके पास पहुंचती है. वैसे ही खाते से पैसे उड़ा लिए जाते हैं. इसीलिए बैंक लगातार अपने ग्राहकों को सावधान करते रहते हैं.

टिप्स-1  लिखें नहीं याद रखें पासवर्ड- आपको नेट बैंकिंग पासवर्ड याद कर लेना चाहिए. इसे किसी को भी न बताएं. न ही इसे कहीं लिखकर रखें. नेट बैंकिंग का इस्तेमाल हमेशा अपने कंप्‍यूटर पर सिक्योर नेटवर्क से करना चाहिए.

टिप्स-2 पेमेंट से पहले चेक करें वेबसाइट कितनी सेफ- ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करते समय साइट के सुरक्षित होने का संकेत भी देख लें, जैसे- ब्राउजर स्टेटस बार पर लॉक आइकॉन या ‘https’ यूआरएल, जहां ‘एस’ उसके सुरक्षित होने की पहचान है. पब्लिक कंप्यूटर या असुरक्षित नेटवर्क से इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना समझदारी नहीं है. कंप्यूटर की बोर्ड की जगह डिजिटल की बोर्ड का उपयोग करना बेहतर है. इस्तेमाल करने के बाद वेबसाइट से लॉग-आउट करना नहीं भूलें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *