श्रीनगर में BSF की पार्टी पर आतंकियों का हमला, दो जवान शहीद

श्रीनगर. श्रीनगर के पनदाछ में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स  की एक पार्टी पर आतंकियों ने हमला कर दिया. इस हमले में BSF के दो जवान शहीद हो गए हैं. आतंकियों ने ये हमला श्रीनगर के बाहरी इलाके में किया. इन दोनों जवानों को एसकेआईएमएस अस्पताल श्रीनगर (SKIMS Hospital Srinagar) में भर्ती कराया गया. जहां एक जवान पहले से ही मृत पाया गया जबकि दूसरे ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. बीएसएफ को जानकारी मिली है कि आतंकी दो हथियार छीन ले गए हैं.


आतंकियों ने अर्धसैनिक बलों की 37वीं बटालियन पर मध्य कश्मीर (Central Kashmir) के गांदरबल (Ganderbal) जिले के पनदाछ में हमला कर दिया. पुलिस के सूत्रों ने जानकारी दी कि ये आतंकी पहले से घात लगाकर बैठे थे और इन्होंने अचानक सड़क पर आकर फायरिंग शुरू कर दी. फायरिंग में घायल दो जवानों को अस्पताल ले जाया गया जहां दोनों ने दम तोड़ दिया.

सूत्रों ने कहा है कि अस्पतालों में डॉक्टरों ने पाया कि दोनों जवान पहले ही दम तोड़ चुके थे. पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने पूरे इलाके को सील कर दिया है. एग्ज़िट पॉइंट्स एरिया और पहाड़ी इलाकों में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है.

डीजीपी ने बताया था घुसपैठ करना चाहते हैं आतंकी
बता दें इससे पहले मंगलवार को जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा था कि एलओसी के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में आतंकी ठिकाने में 300 से ज्यादा आतंकवादी मौजूद हैं और वे भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं. सिंह ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के पाकिस्तान के मंसूबे को नाकाम करने के लिए सुरक्षाकर्मी पूरी चौकसी बरत रहे हैं.

पुलिस प्रमुख ने बताया था कि आतंकवादियों के चार समूह जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करने में कामयाब रहे हैं. सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के भीतरी हिस्से में 240 से ज्यादा आतंकी सक्रिय हैं. उन्होंने कहा, “यह संख्या लगातार घट रही है. इस साल हमने 270 के आंकड़े के साथ शुरूआत की थी. आज यह संख्या 240 के करीब है.”

डीजीपी ने यह भी बताया था, “हम अब तक 70 से ज्यादा आतंकियों का सफाया करने में कामयाब हुए हैं. इसमें विभिन्न आतंकी संगठनों के 21 कमांडर भी हैं. ये सभी कश्मीर और जम्मू क्षेत्र में सक्रिय थे.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.