नूंह : DM पंकज ने जिले में आगामी 31 मई तक लॉकडाउन जारी रखने के दिए आदेश

नूंह, (शब्बीर अहमद) जिलाधीश पंकज ने  जिला में कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए आगामी 31 मई तक जिला में लॉकडाउन जारी रखने के आदेश दिए है। आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005  तथा दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिलाधीश ने  जारी आदेशों के तहत लॉकडाउन अवधि के दौरान जिला में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन की ओर से जारी नियमावली के अनुसार कार्य जारी रहेंगे।  
 मार्केट एरिया के लिए स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर जारी
जिलाधीश ने कहा कि सोमवार से लागू हुए लॉक डाउन 4 के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव, शहरी स्थानीय निकाय विभाग द्वारा मार्केट एरिया के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर्स (एस ओ पी) की पालना के बारे में निर्देश जारी हुए है। जिसके तहत गली मोहल्लों में बनी दुकान, अकेली दुकानें तथा म्यूनिसिपल एरिया की मार्केट आदि क्षेत्रों के लिए दुकानदारों, ग्राहकों व विजीटर्स द्वारा सोशल डिस्टेंस की पालना सुनिश्चित की जाएगी। कोविड-19 में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन, कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी उपाय जैसे ग्राहकों को आपस में दो गज की दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित करना, फेस मास्क का प्रयोग, दुकान को सेनीटाइज करवाना आदि किए जाने आवश्यक है।          
  रिस्क प्रोफाइल बदलने पर पहले से जारी छूट होंगी वापस                
  जिलाधीश के जारी आदेशों के तहत खोली गई मार्केट नगर पालिका अधिकारियों व मार्केट एसोसिएशन के पदाधिकारियों को सघन बाजारों में एसओपी के तहत सोशल डिस्टेंस व अन्य आवश्यक उपाय लागू करने के कार्य चिन्हित करने के निर्देश भी दिए गए है। साथ ही अगर कोई नियमों का उल्लंघन करें तो उसके खिलाफ एमसी एक्ट के तहत चालान आदि कार्रवाई भी की जा सकती है। उन्होंने बताया कि जारी आदेशों के अनुसार सक्षम अधिकारियों को बाजारों में स्थिति के अध्ययन करने व आगामी कार्रवाई के लिए प्राधिकृत कर दिया है। जिला का रिस्क प्रोफाइल बदलने अर्थात ऑरेंज से रेड या ग्रीन होने पर उसी श्रेणी के हिसाब से गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस लागू होंगी और पहले जारी की गई छूट या रियायतें अपने आप वापस हो जाएंगी।

    ये हैं सरकार की हिदायतें –
1. किसी भी दुकानदार व खरीददार द्वारा कम से कम दो गज की दूरी बराए रखनी है।
2. सभी दुकानदार को मास्क व दस्ताने पहनना अनिर्वाय है ताकि एक-दूसरे के हाथों को छूने से बचा जा सके तथा उन सभी चीजों जो लोगो द्वारा स्पर्श की जाती है जैसे (दरवाजे, हैंडल) को भी सेनिटाईज किए जाए
3. एयर कंडीशनर की शॅाप पर मुख्य द्वार पर थर्मल स्कैनर व हैंड सेनिटाइजर उपलब्ध करवाना है।
4. दुकानदार को यह सुनिश्चित करना होगा कि उसकी दुकान पर एक बार में पांच से अधिक व्यक्ति न हों तथा दुकान में प्रवेश करने वाले व्यक्ति कि थर्मर स्क्रीनिंग, सैनिटाईजर व मास्क जरुरी है।
5. दुकानदार को खरीददारों को इस तरह खड़ा करना है कि कम से कम 6 फिट का दूरी रहे। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के लिए मार्क लगाए जाएं।
6. किसी भी ग्राहक की गाड़ी अपनी दुकान के आगे खड़ी नहीं करवानी है। इसके लिए उसे उचित पार्किंग जगह पर गाड़ी खड़ी करवाने को कहना होगा।
7.नागरिक भी यह सुनिश्चित करेंगे कि एक बार में अपने परिवार के एक ही सदस्य को बाजार में भेजें ताकि भीड़ न हो।
8. नगर परिषद व नगर पालिका के कर्मचारियों को सुनिश्चित करना होगा कि बाजार में दिन, रात सफाई  व सैनिटाईजर की व्यवस्था बरकरार रहे।
9. सभी दुकानदार व रेहड़ी वालों को आरोग्य सेतु एप का नोटिस लगाना होगा और ग्राहक को इस एप के बारे में बताना होगा ताकि ग्राहक इस मोबाइल एप का प्रयोग प्रतिदिन करें।
सभी भोजनालय होटल आदि में आम जनता को बैठकर खाने की सेवा प्रदान करने की अनुमति नहीं होगी उन्हें केवल होम डिलीवरी के लिए अनुमति दी जाती है और मास्क, दस्ताने, टोपी इत्यादि का प्रयोग करते हुए रसोई व छिलवरी का कार्य किए जाए। बाजार की दुकानें प्रतिदिन प्रात:09 बजे से सायं 06 बजे तक रोस्टर (बारी)ईवन व ओड संप्रेक्षण के आधार पर खोली जाएंगी विषम तिथियों पर केवल विषम संख्या वाली तथा सम तिथि को सम नंबर वाली दुकाने खुलेगी। शराब की दुकान के लिए हैंड सैनिटाईजर, मास्क व बैरिकेटिंग की व्यवस्था की जाएगी।                            
  जिलाधीश ने कहा कि संबधित एसडीएम एवं इंसिडेंट कमांडर अपने अपने संबंधित क्षेत्र में निरीक्षण टीम का गठन करेंगे जो बाजार में भीड़ को नियंत्रित करने,  सोशल डिस्टेंस को बनाए रखने के साथ-साथ दुकानों को अपने रोटेशन अर्थात बारी पर खोलने के कार्य की निगरानी रखेंगे तथा जो दुकानदार रोटेशन का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ  सरकार के नियमानुसार कार्रवाई करेंगे। अतिरिक्त उपायुक्त ओवर आल इंसीडेंट कमांडर होंगे जिनके निर्देशानुसार इन आदेशों की पालना होगी। जिलाधीश ने कहा है कि उक्त आदेशों की अवहेलना करने वाले पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60  के अंतर्गत जुर्माना या  सजा का  प्रावधान है।                      
    जिलाधीश ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी नियमावली की अनुपालना भी करनी होगी। सोशल डिस्टेसिंग ही कोरोना से एकमात्र बचाव का मूलमंत्र है। लॉकडाउन के  दौरान कोरोना से बचाव के लिए शासन व प्रशासन द्वारा समय -समय पर जारी किए जा रहे आदेशों की कॉपी जिला की वेबसाइट पर भी उपलब्ध हैं। विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.