बैंक जल्द ही ग्राहकों को देंगे डेबिट व क्रेडिट कार्ड को स्विच ऑन और ऑफ करने की सुविधा

दिल्ली, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को बैंकों और कार्ड जारी करने वाली अन्य कंपनियों को निर्देश दिया कि वे अपने ग्राहकों को अपने डेबिट व क्रेडिट कार्ड को स्विच ऑन और ऑफ करने की सुविधा दें। साइबर फ्रॉड के बढ़ते मामलों को देखते हुए आरबीआई ने डिजिटल लेन-देन में सुरक्षा बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया उठाया है। कार्ड के जरिये होने वाले भुगतान में भारी बढ़ोतरी हुई है। इसे देखते हुए आरबीआई ने यह भी निर्देश दिया कि फिजिकल या वर्चुअल सभी कार्ड को इश्यू या री-इश्यू करने के समय इसे सिर्फ कांटैक्ट आधारित प्वाइंट ऑफ यूज (एटीएम और प्वाइंट ऑफ सेल) पर उपयोग होने के लिए इनेबल किया जाए।

ऑनलाइन, ऑफलाइन या कांटैक्टलेस ट्रांजेक्शन को कर सकेंगे इनेबल

आरबीआई ने एक सर्कुलर में कहा कि कार्ड इश्यू करने वाली कंपनी या बैंक को अपने कार्डहोल्डर्स को कार्ड नॉट प्रजेंट (डोमेस्टिक एवं इंटरनेशनल) ट्रांजेक्शंस, कार्ड प्रजेंट (इंटरनेशनल) ट्रांजेक्शंस और कांटैक्टलेस ट्रांजेक्शन इनेबल करने की सुविधा देनी चाहिए। कार्ड नॉट प्रजेंट का मतलब है ऑनलाइन ट्रांजेक्शन।

किसी भी वक्त, कई माध्यमों से कार्ड को कर सकेंगे इनेबल या डिसेबल

आरबीआई ने कहा कि कार्ड को स्विच ऑन/ऑफ करने, ट्रांजेक्शन का लिमिट तय करने की सुविधा हर वक्त और कई माध्यमों के जरिये दिया जाए। माध्यमों में मोबाइल एप्लीकेशन, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम या इंटरेक्टिव वॉयस रिस्पांस शामिल हैं। आरबीआई ने कहा कि मौजूदा कार्ड में कार्ड नॉट प्रजेंट (डोमेटस्टिक और इंटरनेशनल) ट्रांजेक्शंस, कार्ड प्रजेंट (इंटरनेशनल) ट्रांजेक्शंस और कांटैक्टलेस ट्रांजेक्शन का राइट डिसेबल करना है या नहीं यह फैसला कार्ड जारी करने वाली कंपनी रिस्क परसेप्शन के आधार पर ले सकती है।

जिन कार्ड से कभी ऑनलाइन भुगतान नहीं हुआ, वे ऑनलाइन भुगतान के लिए होंगे डिसेबल

आरबीआई ने कहा कि अभी मौजूद जिन कार्ड्स का ऑनलाइन/इंटरनेशनल/कांटैक्टलेस ट्रांजेक्शन के लिए कभी इस्तेमाल नहीं हुआ है, उन्हें अनिवार्य तौर पर इन चीजों के लिए डिसेबल कर दिया जाए। आरबीआई का यह निर्देश हालांकि प्रीपेड गिफ्ट कार्ड और मास ट्रांजिट सिस्टम में उपयोग होने वाले कार्ड के लिए लागू करना अनिवार्य नहीं है।

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Translate »