तीसरी बार लगने जा रहा है चंद्रग्रहण, भूल कर भी ना करें ये काम

इस साल तीसरी बार चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है, 5 जुलाई रविवार के दिन चंद्र ग्रहण लगेगा। विज्ञान में एक और जहां इस एक खगोलीय घटना माना जा रहा है, वहीं ज्योतिष में इसे अशुभ घटना के रूप में देखा जाता है, इसलिए ग्रहण के समय कुछ कार्य करना वर्जित माने गए हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण से पहले सूतक का लगता है, दौरान किसी भी तरह के शुभ काम नहीं किए जाते।

बता दें कि इस बार यह चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। साल का तीसरा चंद्र ग्रहण यूरोप अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। जिसे भारत के लोग नहीं देख पाएंगे। ग्रहण का समय सुबह 8:30 से लेकर 11:00 सुबह 11:21 तक रहेगा। इस ग्रहण का कुल अवधि 2 घंटे 43 मिनट की है।

बता दें कि चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के कुछ समय पहले सूतक काल की शुरुआत होती है। सूर्य ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले होता है तो वही चंद्र ग्रहण का सूतक 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है। माना जाता है कि सूतक लगने के बाद व्यक्ति को खाने-पीने नित्यकर्म तामसी भोजन और तामसी प्रवृत्ति से दूर रहना चाहिए।

हमें दृष्टिकोण से सूतक काल में बालक वृद्ध और रोगी को छोड़कर और किसी को भोजन नहीं करना चाहिए। नेता के अनुसार ग्रहण लगने पर पके हुए खाने में तुलसी के पत्ते डालकर रख देना चाहिए। माना जाता है कि इससे खाना दूषित नहीं होता सूतक काल के दौरान किसी भी तरह का शुभ काम नहीं किया जाता।

ग्रहण का सूतक का लगते ही गर्भवती महिलाओं को अपने पेट पर गेरू लगाने की सलाह दी जाती है। इससे उनके आज जन्मे बच्चे की रक्षा होती है, सूतक का लगने पर किसी तरह की पूजा पाठ नहीं किए जाते और फिर ग्रहण की समाप्ति के बाद मंदिर का शुद्धिकरण करके पूजा आरंभ किया जाता है।

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Translate »
//graizoah.com/afu.php?zoneid=2060010