6 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है सावन मास, जानिए इसका महत्व

दिल्ली, साल सनातन पंचांग का सावन महीना या श्रावण 6 जुलाई (सोमवार) से आरंभ होने जा रहा है। यह मास देवादी देव महादेव को यह समर्पित है और इसमें भगवान शिव की आराधना की जाती है। इस माह को लेकर मान्यता है कि इसमें भोलेनाथ की आराधना करने से सभी कष्टों का नाश होता है और सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

हिंदू पंचांग के अनुसार सावन मास पांचवा महीना होता है यह महीना इस साल 6 जुलाई सोमवार से शुरू होने जा रहा है और इसका समापन 3 अगस्त को होगा उस दिन भी सोमवार ही है। सोमवार का दिन महादेव का दिन माना जाता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है।

इस बार सावन मास की शुरुआत सोमवार को और समापन भी सोमवार को हो रहा जो कि काफी शुभ और फलदाई माना जा रहा है। सावन मास को लेकर मान्यता है कि इन दिनों में भक्ति भाव से भगवान शिव की आराधना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। 

इस माह को लेकर पौराणिक कथा के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान जब कालकूट नाम का जहर निकला था तो देव और दानव दोनों उससे भयभीत हो गए थे और कोई भी इसे लेने के लिए तैयार नहीं था। इस बीच इसको लेकर चारों तरफ हाहाकार मच गया था और ये विष इतना जहरीला था कि सभी दिशाएं इस से जलने लगी थी। इस विष से दानव देव ऋषि मुनि सभी जलने लगे थे। इस विष से बचने के लिए सभी महादेव के पास गए और उन्होंने दृष्टि को बचाने के लिए विष को ग्रहण कर लिया।

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper

Translate »
//graizoah.com/afu.php?zoneid=2060010