दिल्ली: तिहाड़ की 9 जेलों के लिए लगे 3 हाईटेक जैमर टॉवर, अब कोई कैदी नहीं कर पाएगा फोन

दिल्ली. राजधानी दिल्ली की तिहाड़ में 9 जेलों को ध्यान रखते हुए गए 3 जैमर टॉवर लगाए गए हैं. दिल्ली की किसी भी जेल में पहली बार ये जैमर टॉवर लगाए गए हैं. तिहाड़ जेल से 200 करोड़ की वसूली का रैकेट चलाने वाले देश के सबसे बड़े जालसाज सुकेश चंदशेखर प्रकरण, यूनिटेक प्रकरण औऱ कई बड़े मामलों के बाद जिस तरह जेल प्रशासन की किरकिरी हुई और करीब एक दर्जन से ज़्यादा जेल अधिकारियों की गिरफ्तारी होने के बाद तिहाड़ प्रशासन हरकत में आया है.

एशिया की सबसे सुरक्षित कही जाने वाली तिहाड़ जेल मे 3 बड़े मोबाइल टाॅवर लगाए गए हैं, ये 3 बड़े टाॅवर जैमर के लिए लगाए गए है. ये हाईटेक टेक्नॉलजी से लैस हैं. सामान्य जैमर (ordinary jammer) एक लिमिटेड एरिया में फोन के सिग्नल को रेस्ट्रिक्ट करता है, जबकि ये तीन टाॅवर पूरे तिहाड़ जेल में किसी भी मोबाइल फोन की सर्विस को रोक देंगे.

यानी किसी भी तरह कोई बड़ा हाई प्रोफ़ाइल कैदी, कोई आतंकी, कोई बड़ा गैंगस्टर, अब तिहाड़ जेल के अंदर से कोई भी गैर कानूनी गतिविधियों को अंजाम नही दे पाएगा. मोबाइल फोन के जरिये ऐसा दावा है जेल प्रशासन का. ये टाॅवर कुछ दिनों में काम करना शुरु कर देंगे.

बता दें कि तिहाड़ जेल की कुल 9 जेल में ये तीन जैमर टॉवर काम करेंगे. जिसमें जेल के अंदर से कोई भी कैदी और कोई भी जेल अधिकारी भी मोबाइल फोन पर फिलहाल बात नही कर पाएगा. केवल जेल के लैंडलाइन नंबर और जेल के अंदर जेल कैदियों को अपने परिवार या जेल मैन्यूल के मुताबिक बात करने के लिए लैंडलाइन फोन चालू रहेंगे. बता दें कि तिहाड़ की 9 जेल में क्षमता केवल 5200 कैदियों की है. पर इस वक्त 12 हजार कैदी तिहाड़ जेल में बंद है.

FacebookTwitterPinterestBloggerWhatsAppTumblrGmailLinkedInPocketPrintInstapaperCopy LinkDiggTelegram

Umh News

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper