एकनाथ शिंदे ने फिर किया शक्ति प्रदर्शन, 38 शिवसेना विधायकों के समर्थन का दावा

मुंबई: शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे अपनी बगावत पर अडिग नजर आ रहे हैं. महाराष्ट्र के राजनीतिक संकट पर उन्होंने कहा, ‘उनके पैरों तले जमीन खिसक गई है. सीएनएन-न्यूज18 को दिए एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में शिंदे ने बागी विधायकों पर दबाव बनाने के आरोपों से इनकार किया. उन्होंने कहा, ‘मैं यहां पिछले चार दिनों से हूं. फिर भी लोग हमसे जुड़ने आ रहे हैं. क्या यह दबाव है?’  उन्होंने अपने खिलाफ कार्रवाई करने के लिए उद्धव ठाकरे गुट के शीर्ष नेताओं के प्रयासों को भी खारिज कर दिया. एकनाथ शिंदे ने कहा, ‘वे डरे हुए हैं. उनके पैरों तले की जमीन खिसक गई है. वे किसको डरा रहे हैं? यह लोकतंत्र में काम नहीं करेगा.’ उन्होंने अपने साथ शिवसेना और अन्य को मिलाकर कुल 50 से ज्यादा विधायकों का समर्थन होने का दावा किया है.

शिवसेना के मंत्री एकनाथ शिंदे के अपनी पार्टी के खिलाफ विद्रोह में भाजपा की संलिप्तता के आरोपों के बीच, जिसने एमवीए सरकार के अस्तित्व पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है, भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी की इसमें कोई भूमिका नहीं निभाई है. हालांकि, बिना कोई ब्योरा दिए उन्होंने स्वीकार किया कि विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस गुरुवार को “किसी काम के लिए” दिल्ली आए थे. चंद्रकांत पाटिल की टिप्पणी राकांपा प्रमुख शरद पवार द्वारा इस बात पर जोर देने के एक दिन बाद आई है कि भाजपा ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार के संकट में भूमिका निभाई है.

शिवसेना के साथ चल रहे राजनीतिक संकट के बीच अपने कैडर को एक साथ रखने के अंतिम प्रयास में, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शुक्रवार को बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के नगरसेवकों से मिलेंगे. इससे पहले उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के सभी जिलाध्यक्षों के साथ बैठक कर यह जानने की कोशिश की कि पार्टी कैडर कहां खड़ा है. इस बीच अधिकांश विधायकों के एकनाथ शिंदे खेमे में प्रवास के साथ, सभी की निगाहें नगरसेवकों के साथ उनकी इस बैठक पर टिकी हैं.

FacebookTwitterPinterestBloggerWhatsAppTumblrGmailLinkedInPocketPrintInstapaperCopy LinkDigg

Umh News

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper