फेसबुक दे रहा छोटे कारोबार को बड़ा करने के लिए पैसा, या चाहिए तकनीक

दिल्ली, कोविड के बाद एक बार फिर से विकास का पहिया तेजी से घूमने लगा है। इसमें एसएमई (लघु मध्यम उद्योग इंडस्ट्री) कारोबारियों की सबसे बड़ी भूमिका है। लघु और मध्यम उद्योग पूंजी और आकार में छोटे होने के बावजूद प्रभावशाली होते हैं। ये बड़ी तादाद में रोजगार सृजन का माध्यम होते हैं। इसीलिए इन्हें भारतीय इकोनॉमी की रीढ़ माना जाता है। कोरोना महामारी के दौर में इन कारोबारियों ने हौसले और हिम्मत की मिसाल पेश की है। साथ ही नई तकनीक से अपने कारोबार को गति प्रदान की।

फेसबुक इंडिया (Facebook India) की लघु और मध्यम कारोबार की निदेशक अर्चना वोहरा ने जागरण न्यू मीडिया से बातचीत में कहा कि स्मॉल बिजनेस भारत की इकोनॉमी के विकास के इंजन हैं और मेटा उनके लिए विकास के अवसरों को अनलॉक करने में पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। वह कहती हैं कि फेसबुक और इंस्टाग्राम की वजह से इन कारोबारियों की ग्लोबल पहुंच बढ़ रही है। 30 करोड़ से अधिक लोग फेसबुक पर किसी भारतीय स्मॉल बिजनेस पेज को लाइक या फॉलो करते हैं। जीएफके-फेसबुक के ऑनलाइन सर्वे में सामने आया कि 96 फीसदी नए बिजनेस ऑनलाइन शुरू हुए। इनमें से 83 फीसदी बिजनेस फेसबुक के साथ शुरू हुए।

मौजूदा समय में लघु मध्यम कारोबारियों के लिए फेसबुक इंडिया की योजनाओं, कारोबार की बदलती परिस्थितियों और एसएमबी कारोबारियों के लिए मौजूद नए अवसरों पर अर्चना वोहरा ने और भी बातें बताईं।

कोरोना के बाद बढ़ी है डिजिटल खरीदारी

कोरोना के दौर के बाद से पूरी दुनिया में चीजें बदली हैं। कोविड के बाद रिकवरी तेजी से लौटी है। इसे आप भी महसूस कर सकते हैं। कोविड के बाद से दुकान पर जाकर सामान खरीदने की बजाए डिजिटल खरीदारी बढ़ी है। ये बदलाव छोटे और बड़े सभी तरह के शहरों और कस्बों में देखा गया है। दुनिया में 300 मिलियन बिजनेस या तो भारत के बिजनेस पेज को या तो फॉलो करते हैं या लाइक करते हैं। पिछले तीन महीने में 1.2 मिलियन पोस्ट इंस्टाग्राम में हुई है जिसमें भारत के छोटे बिजनेस को सपोर्ट किया है। भारत में इंस्टाग्राम पर आधे मिलियन से अधिक छोटे कारोबारियों ने या तो वाट्सअप नंबर या फोन नंबर या बायो में ईमेल लिस्टेड किया है। इससे अलावा ये कारोबारी अपने संभावित ग्राहकों को संपर्क करने के लिए डायरेक्ट मैसेज करने को प्रोत्साहित कर रहे हैं।

शुरुआत में फेसबुक की ओर से कहा जा रहा था कि fb पर आएं, पेज बनाएं और ज्यादा ऑर्डर पाएं। लेकिन आज कहा जा रहा है कि आएं, पेज बनाएं, नए कस्टमर मिलेंगे, रीच बढ़ेगी, ट्रांजेक्शन होगा और वो ट्रांजेक्शन एंड टू एंड होगा जिसे डिस्कवरी टू डिमांड कहा जा रहा है। ये आप मेटा के पेज पर कर सकते हैं। इस बात पर भी ध्यान देने की जरूरत है कि क्या फेसबुक पर पेज बना कर अपना बिजनेस बढ़ाया जा सकता है। तो आपको ये पता होना चाहिए कि फेसबुक का 3.6 बिलियन यूजर्स फेसबुक के ऐप को हर महीने इस्तेमाल करते हैं। वहीं अगर भारत की बात करें तो 434 मिलियन लोग हर रोज फेसबुक के ऐप का इस्तेमाल करते हैं। दुनिया में 200 मिलियन छोटे बिजनेस फेसबुक के platform का इस्तेमाल फेसबुक, इंस्टाग्राम और WhatsApp पर करते हैं। लगभग आधा बिलियन बिजनेस ने अपने इंस्ट्राग्राम के प्रोफाइल में अपना कांटेक्ट डिटेल दिया है। आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हों आप तक इन कंपनियों के उत्पाद पहुंच जाएंगे।

कोविड के दौरान फंड की कमी को देखते हुए अगस्त में एमएमई लोन इनिशिएटिव दो सौ से अधिक सिटी में इस प्रोग्राम का फायदा मिलता है। फेसबुक के पार्टनर के साथ लोन के लिए अप्लाई करने पर उन्हें वाजिब ब्याज पर लोन मिलेगा। इस स्कीम के तहत उन्हें 0 .2 फीसदी तक की सब्सिडी मिलेगी। साथ ही फेसबुक के कॉल सेंटर की मदद मिलेगी जिसके जरिए उन्हें अपने लोन के स्टेटस का पता लग सकता है।

फेसबुक का लोकल टू ग्लोबल इनिशिएटिव

15 मिलियन बिजनेस whatsapp पर हैं भारत में। फेसबुक के बहुत से प्रोग्राम भारत के कारोबारियों की जरूरतों को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। आप इसे लोकल टू ग्लोबल इनिशिएटिव कह सकते हैं। भारत के छोटे कारोबारियों को जैसी भी सुविधाएं या स्किल चाहिए, फेसबुक सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराने को तैयार है।

ऑनलाइन बिजनेस बढ़ाना हो तो इन बातों का रखें ध्यान

– फेसबुक और इंस्टाग्राम पर पेज बनाएं।

– विज्ञापन पर छोटे बजट से टेस्ट करें की आपकी रीच कितने में आ रही हैं।

– फेसबुक, इंस्टा और whatsapp तीनों का इस्तेमाल करें।

– आप लगातार देखें की आपका कैंपेन कितना इफेक्टिव है तभी आपको अच्छा रिजल्ट मिलेगा।

– पर्सनलाइज ऐड की सुविधा का भरपूर फायदा उठाएं। आप उन्हीं को टारगेट करें जो आपके भविष्य के ग्राहक हो सकते हैं।

FacebookTwitterPinterestBloggerWhatsAppTumblrGmailLinkedInPocketPrintInstapaperCopy LinkDigg

admin

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper