क्या आप भी नाखून में सफेद दाग को कैल्शियम की कमी मानते हैं? तो तोड़े भ्रम …

हमें जब भी बीमारी होती है तो हम डॉक्टर के पास जाते हैं. कई बार हमारा शरीर ही खुद कई बीमारियों के बारे में संकेत देता है लेकिन, हमें जानकारी नहीं होती तो हम इन संकेतों को समझ नहीं पाते. दूसरे अंगों की तरह ही हमारे नाखून भी कई तरह की बीमारियों के लक्षण को बताते हैं. आपने गौर भी किया होगा कि जब आप डॉक्टर के पास जाते हैं तो वह आपके नाखूनों को देखते हैं, क्योंकि इससे एक्सपर्ट अंदाजा लगा लेते हैं कि आप में कौन सी बीमारी है. नाखूनों में होने वाले सफेद दाग भी कई तरह की गंभीर बीमारियों का संकेत देते हैं.

नाखून में सफेद दाग या फिर लंबी लंबी सफेद लाइन देखकर लोग मानते हैं कि यह कैल्शिय की कमी के कारण होती है लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है. नाखूनों में सफेद दाग कैल्शियम नहीं बल्कि जिंक की कमी के कारण भी होते हैं. कैल्शियम की कमी को लेकर जारी मिथक को तोड़ने के लिए न्यूट्रिशिनिस्ट पूजा मखीजा ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट किया. इसमें उन्होंने बताया कि जिंक एक बेहद जरूरी पोषक तत्व है जिसकी शरीर को जरूरत होती है. उन्होंने कहा कि इसलिए जरूरी है कि जिंक युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन को बढ़ाना जरूरी है क्योंकि हमारा शरीर न तो जिंक का निर्माण करता है और न ही वह खाद्य पदार्थों से मिलने वाले जिंक को बचा कर रख सकता है.

पूजा मखीजा के अनुसार आयरन के बाद जिंक ही सबसे अधिक मात्रा हमारे शरीर में पाई जाती है और कोशिकाओं की वृद्धि, प्रोटीन उत्पादन, डीएनए में, प्रतिरक्षा प्रणाली बनाए रखने के लिए बेहद जरूरी है. इसकी कमी से कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है.

– पर्याप्त नींद लेने में कमी आना
– इम्यूनिटी का कमजोर होना
– वजन का बढ़ना
– दांतों में सड़ने आने लगती है और मसूड़ों से खून निकलना.
– हाथ और चेहरे पर झुर्रियां आना
– गंध और स्वाद की कमी आ जाना
– डायरिया से ग्रसित होना
– त्वचा पर घाव का होना होना
– भूख में कमी आना,
– बालों का सामान्य से अधिक झड़ना
– नाखूनों में सफेद दाग का होना

जिंक की कमी होना पर इन फूड्स का करें सेवन

– मशरूम का करें सेवन
– मूंगफली का सेवन
– तिल का सेवन
– अंडे का सेवन
– दही का सेवन
– लहसुन का सेवन
– राजमा का सेवन
– दलिया का सेवन
– कॉर्नफ्लेक्स का सेवन

जिंक की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट का उपयोग: जिंक कमी को पूरा करने के लिए तो वैसे प्राकृतिक खाद्य पदार्थों का सहारा लेना चाहिए लेकिन, आप इसके सप्लीमेंट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. बाजार में कई तरह के सप्लीमेंट आते हैं जैसे ग्लूकोनेट, जिंक सल्फेट, जिंक साइंट्रेट आदि. इनको उपयोग में लाने से पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लेना न भूलें.

FacebookTwitterPinterestBloggerWhatsAppTumblrGmailLinkedInPocketPrintInstapaperCopy LinkDiggTelegram

Umh News

Umh News India Hindi News Channel By Main Tum Hum News Paper