Live News

कारसेवक श्रीकांत पुजारी को जमानत, बाबरी मस्जिद ढहने के बाद हुए दंगों में शामिल होने का है आरोप

Share News
10 / 100

बेंगलुरु. 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस (Babri Masjid Demolition) के बाद हुए दंगों (Riots) में कथित भागीदारी के आरोप में गिरफ्तार किए गए श्रीकांत पुजारी को आज को कर्नाटक (Karnataka) के हुबली की एक अदालत ने जमानत दे दी. बीजेपी (BJP) ने पुजारी की गिरफ्तारी के खिलाफ राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की थी और आरोप लगाया था कि सत्तारूढ़ कांग्रेस (Congress) ‘हिंदू विरोधी’ है. गौरतलब है कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े 31 वर्ष पुराने मामले में हाल में एक हिंदू कार्यकर्ता की गिरफ्तारी को लेकर राज्य के कई हिस्सों में अपना विरोध प्रदर्शन तेज करते हुए गुरुवार को ‘मैं भी कारसेवक हूं, मुझे भी गिरफ्तार करो’ अभियान शुरू किया था.

बेंगलुरु में अभियान का नेतृत्व करते हुए विधायक एवं पूर्व मंत्री वी. सुनील कुमार ने भाजपा कार्यकर्ताओं के ‘जय श्री राम’ के नारों के बीच सदाशिवनगर पुलिस थाने के निकट धरना दिया था. कुमार एक तख्ती पकड़े हुए थे जिस पर ‘मैं भी कारसेवक हूं, मुझे भी गिरफ्तार करो’ लिखा था. कुमार ने कहा कि उन्होंने भी 1992 में राम मंदिर आंदोलन में हिस्सा लिया था, जिसके लिए उन्हें भी गिरफ्तार किया जाना चाहिए. बाद में पुलिस ने उन्हें एहतियातन हिरासत में ले लिया था. भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के. एस. ईश्वरप्पा और सी. टी. रवि ने क्रमशः शिवमोगा और चिक्कमगलुरु के जिला मुख्यालय शहर में प्रदर्शन का नेतृत्व किया था.

गौरतलब है कि उत्तरी कर्नाटक के हुबली शहर में पिछले हफ्ते एक कारसेवक श्रीकांत पुजारी को दिसंबर 1992 में दर्ज दंगे के एक मामले के सिलसिले में पुलिस ने गिरफ्तार किया था. भाजपा ने कांग्रेस सरकार पर हिंदुओं के प्रति कड़ा रवैया अपनाने और अल्पसंख्यक तुष्टिकरण में शामिल होने का आरोप लगाया है. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने पुजारी पर असामाजिक गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है. सिद्धरमैया ने कहा कि पुजारी पर शराब की अवैध बिक्री, जुआ समेत 16 असामाजिक गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है. विधायक एवं पूर्व मंत्री वी. सुनील कुमार ने पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस सरकार की ‘राम विरोधी और हिंदू विरोधी नीतियों’ की निंदा करने के लिए ‘मैं भी कारसेवक हूं, मुझे भी गिरफ्तार करो’ अभियान शुरू किया गया.

1990 और 1992 में अयोध्या में ‘कार सेवा’ में हिस्सा लिया था. उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस कारसेवकों और राम भक्तों को डराने-धमकाने की रणनीति पर उतर आई है. श्रीकांत पुजारी की गिरफ्तारी को लेकर सिद्धरमैया सरकार की निंदा करते हुए कुमार ने कहा कि हिंदू कार्यकर्ता को एक ‘अपराधी’ के रूप में चित्रित किया जा रहा है, लेकिन मेंगलुरु कुकर बम मामले में आरोपी को निर्दोष बताया जा रहा है. उन्होंने आरोप लगाया कि ‘कांग्रेस के नेता के. जे. हल्ली और डी. जे. हल्ली दंगा मामलों के आरोपियों को रिहा करने के लिए सरकार को पत्र लिख रहे हैं.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *