Dailynews

फिरोजाबाद : बवाल, SI का सिर फटा, फायरिंग-पत्थरबाजी में 10 घायल, सीओ और मजिस्ट्रेट ने भागकर बचाई जान

Share News
10 / 100

फिरोजाबाद में बंदी की मौत के बाद शुक्रवार रात 3 घंटे तक बवाल चला। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। आक्रोशित भीड़ ने रोड पर खड़ी बाइकें फूंक दीं। एम्बुलेंस तोड़ दी। सीओ हिमांशु गौरव और सिटी मजिस्ट्रेट राजेंद्र कुमार को भागकर जान बचानी पड़ी।

उग्र भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पथराव कर रहे लोगों को पुलिस ने घसीट-घसीटकर पीटा। हवा में 6 राउंड फायरिंग की। घटना में करीब 10 लोग घायल हुए हैं।

घायलों में 5 पुलिसकर्मी भी हैं। एक SI का सिर फट गया। विरोध बढ़ता देख आसपास के 5 थानों से पुलिस बुला ली गई। एक कंपनी PAC भी आई। SSP समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे।

परिजनों से बात की। उन्हें समझाया। तब कहीं जाकर हालात काबू हुए। पुलिस ने 4 लोगों को हिरासत में लिया। रात में सभी को छोड़ दिया गया। आज सुबह पीड़ित परिवार को अफसरों ने 5 लाख का चेक सौंपा। उसके बाद पुलिस की मौजूदगी में बंदी का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

थाना दक्षिण के नगला पचिया निवासी आकाश सिंह (28) को पुलिस ने 17 जून को बाइक चोरी के मामले में जेल भेजा था। 19 जून को जेल में उसकी तबीयत खराब हो गई। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। 21 जून को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई।

पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। एंबुलेंस से शव को घर लेकर जाते समय परिजनों ने थाना दक्षिण के हिमायूंपुर चौराहे पर शव रखकर जाम लगा दिया। बीच सड़क पर महिलाएं और पुरुष बैठ गए। नारेबाजी शुरू कर दी। भीम आर्मी के पदाधिकारी भी मौके पर पहुंचे और प्रदर्शन करने लगे।

जाम की सूचना पर पुलिस पहुंची। परिजनों को समझाने का प्रयास करने लगी। इसी बीच लोग एंबुलेंस को चारों ओर से घेरकर खड़े हो गए। पुलिस ने हटाने का प्रयास किया तो लोगों ने ईंट-पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। मौके पर भगदड़ मच गई। पथराव होता देख पुलिस टीम को उल्टे पांव भागना पड़ा।

इसके बाद कई थानों की फोर्स और पीएसी आई। उग्र भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इससे आक्रोशित लोगों ने सड़क किनारे खड़ी बाइक को आग लगा दी। एम्बुलेंस में भी तोड़फोड़ कर दी। आधे घंटे तक जमकर ईंट-पत्थर फेंके गए।

पुलिस अधिकारियों का कहना है- प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर युवा और महिलाएं थीं। बवाल बढ़ता देख व्यापारियों ने दुकानें बंद कर दीं। जाम लगाने से लेकर पत्थरबाजी और लाठीचार्ज तक करीब 3 घंटे तक बवाल चला।

देर शाम हुए बवाल के बाद अब स्थिति कंट्रोल में है। शनिवार सुबह 5:30 बजे डीएम रमेश रंजन और एसएसपी सौरभ दीक्षित की मौजूदगी में आकाश का अंतिम संस्कार किया गया। प्रशासन ने परिजनों को 5 लाख रुपए का चेक भी दिया।

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया- जाम लगाने के बाद रात 8 बजे प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। हालात बेकाबू हो गए। पुलिस ने लोगों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। कई लोगों को चोटें आई। लोग जान बचाने के लिए घरों में घुस गए। पुलिस खींचकर लोगों को घर से बाहर लाई और जमकर पीटा।

SSP सौरभ दीक्षित ने बताया, पीड़ित पक्ष के साथ कई लोग इकट्ठा थे, उन्हें समझाया जा रहा था। इसी बीच अराजक तत्वों ने माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए हालात को संभाला। जिन्होंने कानून को हाथ में लिया है, उन पर कार्रवाई जरूर होगी। 4 लोगों को हिरासत में लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *